Ham Laaye Hai Tuufaan Se Lyrics in Hindi-Mohammad Rafi-Jagriti-Desbhakti Song

Ham Laaye Hai Tuufaan Se Lyrics in hindi

Song Credit:


Song Title: ham laaye hai tuufaan se kashtii nikaal ke
Film: Jagriti
Music Director: Hemant Kumar
Lyricist: Pradeep
Singer (s): Mohammad Rafi

Description:-ham laaye hai tuufaan se रफ़ी साहब के गायकी की सबसे बड़ी विशेषता उनकी गायकी की विविधता थी। वो भक्ति या देशभक्ति गाना उतनी ही तल्लीनता से गाते थे जिस तरह रूमानी नग्मे। उनकी यही विशेषता उनको बाकि गायको से अलग करती हैं। गीतकार -प्रदीप के इस गीत को सुनकर मेरे आँसू छलक जाते हैं
देश की धरोहर को सँभालने जैसी अद्भुत भावना जगाने वाले शब्दों को यदि बिना सुर ताल की साथ कहो, वो मजा नहीं आता लेकिन आवाज की जादूगर मौहम्मद रफ़ी साहब ने अपनी रूमानी आवाज से इस गीत को अमर बना दिया भारत माता की जय जयकार जब जब होगी, खुदा की आवाज़ के उस मालिक मौहम्मद रफ़ी का नाम अमर रहेगा

Ham Laaye Hai Tuufaan Se
Kashtii Nikaal Ke Lyrics in hindi

पासे सभी उलट गए दुश्मन की चाल के
अक्षर सभी पलट गए भारत के भाल के
मंज़िल पे आया मुल्क हर बला को टाल के
सदियों के बाद फिर उड़े बादल गुलाल के

हम लाए हैं तूफ़ान से कश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के
तुम ही भविष्य हो मेरे भारत विशाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के

देखो कहीं बरबाद ना होए ये बगीचा
इसको हृदय के खून से बापू ने है सींचा
रक्खा है ये चिराग़ शहीदों ने बाल के, इस देश को…

दुनिया के दांव पेंच से रखना ना वास्ता
मंज़िल तुम्हारी दूर है लम्बा है रास्ता
भटका ना दे कोई तुम्हें धोखे में डाल के, इस देश को…

ऐटम बमों के जोर पे ऐंठी है ये दुनिया
बारूद के इक ढेर पे बैठी है ये दुनिया
तुम हर कदम उठाना ज़रा देख भाल के, इस देश को…

आराम की तुम भूल भुलय्या में ना भूलो
सपनों के हिंडोलों पे मगन होके ना झूलो
अब वक़्त आ गया है मेरे हँसते हुए फूलों
उठो छलाँग मार के आकाश को छू लो
तुम गाड़ दो गगन पे तिरंगा उछाल के, इस देश को…

Ham Laaye Hai Tuufaan Se
Kashtii Nikaal Ke Lyrics in English

paase sabhii ulaT gae dushman kii chaal ke
akshar sabhii palaT gae bhaarat ke bhaal ke
ma.nzil pe aayaa mulk har balaa ko Taal ke
sadiyo.n ke baad phir u.De bAdal gulaal ke

ham laae hai.n tuufaan se kashtii nikaal ke
is desh ko rakhanaa mere bachcho.n sambhaal ke
tum hii bhavishhy ho mere bhaarat vishaal ke
is desh ko rakhanaa mere bachcho.n sambhaal ke

dekho kahii.n barabaad nA hoe ye bagiichaa
isako hR^iday ke khuun se baapuu ne hai sii.nchaa
rakkhaa hai ye chiraaG shahiido.n ne baal ke, is desh ko…

duniyaa ke daa.nv pe.nch se rakhanaa nA vaastaa
ma.nzil tumhaarii dUr hai lambaa hai raastaa
bhaTakaa nA de koii tumhe.n dhokhe me.n Daal ke, is desh ko…

aiTam bamo.n ke jor pe ai.nThii hai ye duniyaa
baaruud ke ik Dher pe baiThii hai ye duniyaa
tum har kadam uThaanaa zaraa dekha bhaal ke, is desh ko…

aaraam kii tum bhuul bhulayyaa me.n nA bhuulo
sapano.n ke hi.nDolo.n pe magan hoke nA jhuulo
ab vaqt aa gayaa hai mere ha.Nsate hue phuulo.n
uTho chhalaa.Ng maar ke aakaash ko chhuu lo
tum gaa.D do gagan pe tira.ngaa uchhaal ke, is desh ko…
Login

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *