Gayatri Mantra – गायत्री मन्त्र ॐ भूर्भुवः स्वः

Gayatri Mantra

Mantra: Gayatri Mantra
Singer: Suresh Wadkar
Music: Sanjayraj Gaurinandan
Lyrics: Maharshi Vishvamitra
Music label: Shemaroo

Description;-गायत्री मंत्र की हिंदी धर्म में विशेष मान्यता है। गायत्री मंत्र के जप से व्यक्ति के जीवन में खुशहाली आती है और घर में उपस्तित नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता हे और मनुष्य के की असाध्य रोग भी नस्ट हो जाते हे इस मंत्र के जप से वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा का कवच बन जाता हे जिस्स्से व्यक्ति को प्रसिद्धि, धन और स्वस्थ शरीर की प्राप्ति होती है। कई तरह के शोधों से यह भी साबित हुआ है कि गायत्री मंत्र के जाप से कई लाभ भी होते हैं जैसे मानसिक शांति, चेहरे पर चमक, खुशी की प्राप्ति, इंद्रियों की बेहतरी, गुस्सा कम होता है, बुद्धि बढ़ती है और यह एक बैटर है ध्यान करने का तरीका।गायत्री मंत्र Rig Veda ऋग्वेद (मंडला 3.62.10) से लिया गया है, जो पांच तत्वों की देवी सावित्री को समर्पित है। कहा जाता है कि महर्षि विश्वामित्र ने गायत्री मंत्र का निर्माण किया था।

Gayatri Mantra in Hindi

ॐ भूर्भुवः स्वः ।
तत्सवितुर्वरेण्यं
भर्गो देवस्यः धीमहि ।
धियो यो नः प्रचोदयात् ।।

Gayatri Mantra Words in English

OM BHŪR BHUVAH SUVAH
TAT SAVITUR VARENYAM
BHARGO DEVASYA DHIMAHI
DHIYO YO NAH PRACHODAYAT

Word by Word meaning of Gayatri Mahamantra

ॐ (oṃ) = OM is a sacred sound and a spiritual symbol in Indian religions
भूर (bhūr) = प्राण प्रदाण करने वाला Who gives life.
भुवः (bhuvaḥ) = दुख़ों का नाश करने वाला Destroyer of sorrows.
स्वः (suvaḥ) = सुख़ प्रदाण करने वाला who gives happiness.
तत (tat) = वह that.
सवितुर (savitur) = सूर्य की भांति उज्जवल Bright like the sun.
वरेण्यं (vareṇyaṃ) = सबसे उत्तम The Best.
भर्गो (bhargo) = कर्मों का उद्धार करने वाला The Savior.
देवस्य (devasya) = प्रभु Lord.
धीमहि (dhīmahi) = ध्यान (आत्म चिंतन के योग्य) Worthy of self reflection.
धियो (dhiyo) = बुद्धि wisdom.
यो (yo) = जो Who
नः (naḥ) = हमारी Ourselves
प्रचोदयात् (prachodayāt) = हमें शक्ति दें Give us strength

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *