Aate jaate khuubsuurat Lyrics – Kishore Kumar – Anurodh

Aate jaate khuubsuurat Lyrics - Kishore Kumar - Anurodh

Song : Aate jaate khuubsuurat
Album : Anurodh
Singer : Kishore Kumar
Musician :Laxmikant-Pyarelal
Lyricist : Anand Bakshi

Decerption:-Enjoy this super hit Hindi classic romantic old song Aate jaate khuubsuurat sung by Kishore Kumar from classic Bollywood blockbuster movie Anurodh starring Rajesh Khanna & Sharmila Tagore. Music composed by Laxmikant-Pyarelal & lyrics by Anand Bakshi.

Aate jaate khuubsuurat aavaaraa Lyrics in Hindi

आते जाते खूब्सूरत आवारा सड़कों पे
कभी कभी इत्तेफ़ाक़ से
कितने अंजान लोग मिल जाते हैं
उन में से कुछ लोग भूल जाते हैं
कुछ याद रह जाते हैं

आवाज़ की दुनिया के दोस्तों
कल रात इसी जगह पे मुझको
किस क़दर ये हसीं ख़याल मिला है
राह में इक रेशमी रुमाल मिला है
जो गिराया था किसी ने जान कर
जिस का हो ले वो जाये पहचान कर
वरना मैं रख लूँगा उस को अपना जान कर
किसी हुस्न-वाले की निशानी मान कर, निशानी मान कर
हँसते गाते लोगों की बातें ही बातें में
कभी कभी इक मज़ाक से कितने जवान किस्से बन जाते हैं
उन किस्सों में चन्द भूल जाते हैं
चन्द याद रह जाते हैं
उन में से कुछ लोग …

तक़दीर मुझ पे महरबान है
जिस शोख की ये दास्तान है
उस ने भी शायद ये पैग़ाम सुना हो
मेरे गीतों में अपना नाम सुना हो
दूर बैठी ये राज़ वो जान ले
मेरी आवाज़ को पहचान ले
काश फिर कल रात जैसी बरसात हो
और मेरी उस की कहीं मुलाक़ात हो
लम्बी लम्बी रातों में नींद नहीं जब आती
कभी कभी इस फ़िराक़ से कितने हसीं ख़्वाब बन जाते हैं
उन में से कुछ ख़्वाब भूल जाते हैं
कुछ याद रह जाते हैं
उन में से कुछ लोग

Aate jaate khuubsuurat aavaaraa Lyrics in English

aate jaate khuub_
suurat aavaaraa sa.Dako pe
kabhii kabhii ittefaaq se
kitane ajaan log mil jaate hai
un me se kuchh log bhuul jaate hai
kuchh yaad rah jaate hai

aavaaz kii duniyaa ke dosto
kal raat isii jagah pe mujhako
kis qadar ye hasii
Kayaal milaa hai
raah me ik reshamii
rumaal milaa hai

jo giraayaa thaa kisii ne jaan kar
jis kaa ho le vo jaaye
pahachaan kar
varanaa mai rakh luu
.Ngaa us ko apanaa jaan kar
kisii husn-vaale kii nishaanii
maan kar, nishaanii maan kar
ha.Nsate gaate logo kii
baate hii baate me

kabhii kabhii ik mazaak
se kitane javaan
kisse ban jaate hai
un kisso me
chand bhuul jaate hai
chand yaad rah jaate hai
un me se kuchh log …

taqadiir mujh pe maharabaan hai
jis shokh kii ye daastaan hai
us ne bhii shaayad
ye paiGaam sunaa ho
mere giito me
apanaa naam sunaa ho
duur baiThii ye raaz vo jaan le
merii aavaaz ko
pahachaan le
kaash phir kal raat
jaisii barasaat ho
aur merii us kii kahii
n mulaaqaat ho

lambii lambii raato me
niid nahii jab aatii
kabhii kabhii is firaaq se
kitane hasii Kvaab ban jaate hai
un me se kuchh
Kvaab bhuul jaate hai
kuchh yaad rah jaate hai
un me se kuchh log

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *